WildLife SOS: “No evidence that house pets can transmit Coronavirus”

इन दिनों तालाबंदी की अवधि के दौरान जंगली जानवर दुनिया भर के शहरों में घूम रहे हैं। कई देशों की सरकार ने महामारी “कोरोनावायरस” के प्रभाव का मुकाबला करने के लिए ऐसा किया है। इसलिए हमने एक प्रतिष्ठित वन्यजीव संरक्षण ट्रस्ट, वाइल्डलाइफ एसओएस से संपर्क किया। ट्रस्ट ने जानवरों से संबंधित विषयों पर खुलकर बात की है, और कई गलतफहमियों को दूर किया है।

स्नेहिल शर्मा, सनातन विज्ञान पुस्तक के लेखक और “हमारी बात एम.एस.एम.ई” के संपादक

This Article in English

कोरोनावायरस एक महामारी है जिसने दुनिया भर में कहर मचा रखा है। इसके अलावा वायरस दिन-प्रतिदिन मानव जाति के लिए खतरा बन रहा है, क्योंकि विश्व स्तर पर वायरस के 8 लाख से अधिक मामलों का पता चला है। इस स्थिति का मुकाबला करने के लिए हर देश महान कदम उठा रहा है क्योंकि भारत जैसे कई देशों ने पूर्ण तालाबंदी की है। इस लॉकडाउन अवधि के दौरान, जंगली जानवरों को सड़कों पर चलते देखा गया है, जबकि मानव अपने घरों में बंद हैं। इस स्थिति को देखकर हमने वाइल्डलाइफ एस.ओ.एस से संपर्क किया। इस प्रतिष्ठित और प्रसिद्ध ट्रस्ट की स्थापना कार्तिक सत्यनारायण और गीता शेषामणि ने वर्ष 1995 में की है और इस ट्रस्ट का उद्देश्य जंगली जानवरों का संरक्षण और बचाव करना है।

टीम से बात करते हुए हमने शुरू में पूछा कि यह वायरस जानवरों को कितना प्रभावित कर सकता है? इसके साथ ही हमने उनसे यह भी सवाल किया कि क्या घरेलू पशुओं और अन्य पालतू जानवरों के साथ व्यवहार करते समय एक इंसान को सावधानी बरतनी चाहिए। जिस पर उन्होंने उत्तर दिया “इस बात का कोई सबूत नहीं है कि बिल्लियों और कुत्तों जैसे घर के पालतू जानवर कोरोनोवायरस को प्रसारित कर सकते हैं। हालांकि, विशेषज्ञों का मानना ​​है कि कोरोनावायरस चीन में पैंगोलिन या चमगादड़ जैसे लुप्तप्राय प्रजातियों की खपत से मनुष्यों को प्रेषित करता है, जहां वायरस की उत्पत्ति हुई थी। हालांकि, सटीक स्रोत अभी निर्धारित नहीं किया गया है।

इस महत्वपूर्ण पहलू की पुष्टि करने के बाद, हमने सड़कों पर खुलेआम घूम रहे जंगली जानवरों पर सवाल उठाया? उन्होंने तथ्यों के साथ उत्तर दिया कि “जबकि कोरोना वायरस के लॉकडाउन के कारण पूरा देश एक ठहराव में आ गया है, शहरी स्थानों के पास जंगली जानवर इस अवसर को अपने जंगलों के घरों से बाहर तलाशने के लिए ले जा रहे हैं। वाहनों की प्रतिबंधित आवाजाही के लिए रोडवेज की बारी है। जानवरों को नेविगेट करना सुलभ हो गया है“। टीम ने आगे बताया कि “प्रदूषण का स्तर कम हो गया है, सार्वजनिक स्थान सुनसान पड़े हैं और मानव मुठभेड़ों में कमी आई है, जिससे शहरी वन्यजीवों को अपने सामान्य क्षेत्र से परे उद्यम करने का मौका मिलता है। यह हमें प्रकृति के साथ अपने संबंधों को फिर से जोड़ने का मौका देता है।” हमारे शहरों में जानवरों की मौजूदगी के प्रति सचेत रहें और सह-अस्तित्व में रहना सीखें“।

Another Leopard Spotted In Chandigarh, Police Ask Residents To ...

आखिर में हमने पूछा कि जब भी किसी जंगली जानवर से मुठभेड़ होती है तो क्या एहतियात बरतना चाहिए? पूरी प्रवीणता के साथ उन्होंने उत्तर दिया “यदि आप किसी पक्षी, सरीसृप या स्तनपायी के पास आते हैं जो घायल या संकट में है, तो कृपया अपने स्थानीय पुलिस या वन विभाग को सतर्क करें। विशेष रूप से जब वह सरीसृप या बड़े स्तनपायी हो, और अपने आप ही जानवरों को संभालने से बचें। मदद आने तक सुरक्षित दूरी से पशु पर कड़ी नजर रखें। वन्यजीव एसओएस दिल्ली एनसीआर, आगरा और वडोदरा में 24 घंटे पशु बचाव हेल्पलाइन चलाता है।”

वन्यजीव एसओएस ने हमारे माध्यम से एक सुंदर संदेश दिया है जो हमें हमारी प्रकृति की देखभाल करने के लिए एक दूरदर्शिता प्रदान कर सकता है। टीम ने कहा कि बढ़ते विनाश, तेजी से शहरीकरण और जंगलों का विखंडन वन्यजीव गलियारों को भंग कर रहा है और तेजी से शहरों और जंगलों के बीच की रेखाओं को धुंधला कर रहा है। इस मामले में, ऐसे विस्तार वाले शहरी क्षेत्रों की निकटता में रहने वाले वन्यजीवों के पास भोजन की तलाश में मानव बस्ती में उद्यम करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। यह महत्वपूर्ण है कि हम जंगली जानवरों के साथ मिलकर रहना सीखें और उनकी दुर्दशा को समझें क्योंकि मानव प्राकृतिक कारकों के कारण उनका प्राकृतिक आवास धीरे-धीरे लुप्त हो रहा है।

हम सभी से प्रकृति का सम्मान करने का आग्रह करते हैं। यह जानवरों और पौधों के संरक्षण के द्वारा किया जा सकता है। यह ध्यान में नहीं रखना चाहिए कि हम मालिक हैं। हमें यह सोचना होगा कि प्रकृति ही एकमात्र संप्रभु है। ऐसा करना और इस पहलू पर सहमत होना निश्चित रूप से भविष्य में “CORONAVIRUS” जैसी महामारी के विकास को रोक सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *